प्रोफेशनल्‍स और ब्‍यूरोक्रेट्स से भरी हुई है पीएम मोदी की कैबिनेट, आप भी डालें इस पर एक नजर

0

पीएम मोदी हमेशा ही कुछ अनूठा करने के लिए जाने जाते हैं। य‍ही वजह है कि उनका उठाया गया हर कदम कुछ खास होता है। ऐसा ही एक कदम बुधवार को उनके कैबिनेट विस्‍तार में भी साफतौर पर दिखाई दिया है। इस विस्‍तार की सबसे खास बात ये है कि इसमें 24 प्रोफेशनल्‍स को पीएम मोदी ने अपनी कैबिनेट का हिस्‍सा बनाया है। पीएम मोदी के मंत्रिमंडल में अब ब्‍यूरोक्रेट्स की भी अच्‍छी खासी संख्‍या है। यदि पीएम मोदी के पूरे कैबिनेट पर नजर डालें तो पता चलता है कि यहां पर महिला शक्ति का भी पूरा सम्‍मान किया गया है। पीएम मोदी की कैबिनेट में कुल 11 महिला मंत्री हैं। पीएम मोदी के मंत्रिमंडल विस्‍तार में कई क्षेत्रों से सांसदों को प्रतिनिधित्‍व करने का मौका भी मिला है।

पीएम मोदी के मंत्रिमंडल में अब 13 वकील, छह डॉक्‍टर, पांच इंजीनियर और तीन पूर्व ब्‍यूरोक्रेट्स शामिल हैं।इसके साथ मंत्रिमंडल में ब्‍यूरोक्रेटस की संख्‍या बढ़कर पांच हो गई है। आपको बता दें कि पूर्व आईएएस आरके सिंह और वरिष्‍ठ आईएफएस अधिकारी एस जयशंकर पहले से ही पीएम मोदी की कैबिनेट का हिस्‍सा बने हुए हैं।अब इनमें कुछ नए नाम जुड़ गए हैं। ओडिशा कैडर के अश्विनी वैष्‍णव 1994 बैच के आईएस अधिकारी हैं। वे पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के निजी सचिव भी रह चुके हैं। माना जाता है कि पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के पीछे उनका ही दिमाग था। इसी तरह से जेडीयू के रामचंद्र प्रसाद सिंह जो एक राज्‍य सभा सांसद है, पूर्व में ब्‍यूरोक्रेट रह चुके हैं। वो यूपी कैडर के आईएएस अधिकारी थे। वे बिहार में मुख्‍यमंत्री के प्रिसिपल सेक्रेट्री रह चुके हैं। महाराष्‍ट्र के पूर्व सीएम नारायण राणे भी ब्‍यूरोक्रेट ही थे। महाराष्‍ट्र के आयकर विभाग में वो अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

मोदी कैबिनेट में शामिल भूपिंदर यादव, मिनाक्षी लेखी, एल मुरुगन को वकालत और कानूनी पेचीदगियों का लंबा अनुभव है। वहीं यदि इस टीम मे प्रोफेशनल्‍स की बात करें तो इसमें राजीव चंद्रशेखर का नाम शामिल है। वहीं गुजरात से लोकसभा सांसद मुंजापारा महेंद्रभाई एक कार्डियोलॉजिस्‍ट और मेडिसिन के प्रोफेसर रह चुके हैं। इसी तरह से मध्‍य प्रदेश के बांकापुर से सांसद सुभाष सरकार गायनाकोलॉजिस्‍ट है और एम्‍स कल्‍याणी बोर्ड के सदस्‍य भी हैं। भागवत किशन राव औरंगाबाद में अपना एक अस्‍पताल चलाते हैं। डिंडोरी से सांसद भारती पवार एक सर्जन है और सांसद बनने से पहले वो अपनी प्रैक्टिस करते थे।

बिशेश्‍वर टूडु ओडिशा के वाटर रिसोर्सिज डिपार्टमेंट में सीनियर इंजीनियर रह चुके हैं। वहीं चौहान देबूसिंह ऑल इंडिया रेडियो में बतौर इंजीनियर सेवा दे चुके हैं। मणिपुर से सांसद राजकुमार रंजन भूगोल के प्रोफेसर रह चुके हैं। इसी तरह से कूच बिहार के सांसद निशिठ प्रमाणिक प्राइमरी स्‍कूल में टीचर रह चुके हैं। एमबीए की डिग्री पा चुके ज्‍योर्तिरादित्‍य सिंधिया भी प्रोफेशनल्‍स की सूची में ही शामिल हैं। उन्‍हें उड्डयन मंत्रालय सौंपा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *