देहरादून जिले में ब्लैक फंगस के छह और मरीज मिले, 198 हुई कुल संक्रमितों की संख्या, 15 की मौत

0

उत्तराखंड में रविवार को देहरादून जिले में ब्लैक फंगस के छह और मरीज मिले हैं। अब तक प्रदेेश में मरीजों की संख्या 198 हो गई है। जबकि 15 मरीजों की मौत हो चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार देहरादून जिले में छह मरीजों में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है। 24 घंटों में किसी मरीज की मौत नहीं हुई है। देहरादून जिले में ब्लैक फंगस के कुल मरीजों की संख्या 181 हो गई है। जबकि नैनीताल जिले में नौ और ऊधमसिंह नगर जिले में एक मरीज का उपचार चल रहा है।

ब्लैक फंगस मरीजों के इलाज के लिए एम्स ऋषिकेश सबसे बड़ा केंद्र है। यहां अब तक 121 मरीज भर्ती हो चुके हैं। देहरादून, नैैनीताल और ऊधमसिंह नगर जिले में कुल मरीजों की संख्या 198 हो गई है। 13 मरीज स्वस्थ हुए हैं।
एसटीएच में ब्लैक फंगस के दो संदिग्ध मरीज भर्ती
सुशीला तिवारी अस्पताल (एसटीएच) में ब्लैक फंगस के दो संदिग्ध मरीज भर्ती हुए हैं। एसटीएच में कोविड पॉजिटिव तीन मरीजों की रविवार को मौत हो गई। एसटीएच के एमएस डॉ. अरुण जोशी ने बताया कि पीलीभीत निवासी 45 वर्षीय युवक और नैनीताल निवासी 65 वर्षीय बुजुर्ग को एसटीएच में भर्ती कराया गया है। दोनों में ही ब्लैक फंगस के लक्षण हैं और पुष्टि के लिए सैंपल जांच को भेजा गया है।

एसटीएच में ब्लैक फंगस के कुल 11 मरीज भर्ती हैं। इनमें नौ की रिपोर्ट पॉजिटिव है, जबकि दो संदिग्ध है। अब तक ब्लैक फंगस के चार संदिग्ध रोगियों की मौत हो चुकी है। इसमें एक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, जबकि तीन की रिपोर्ट का इंतजार है। ब्लैक फंगस में प्रयोग होने वाले इंजेक्शन की दो हजार वॉयल हैं। एसटीएच में कोविड से हल्द्वानी के दो और ऊधमसिंह नगर के एक मरीज की मौत हुई है। कोविड पॉजिटिव 172 मरीज भर्ती हैं और 25 की हालत अतिगंभीर है, जबकि 60 गंभीर हैं।
राजकीय अस्पताल में म्यूकोरमाइकोसिस वार्ड तैयार
ऋषिकेश के एसपीएस राजकीय अस्पताल में चार बेड का म्यूकोरमाइकोसिस केयर वार्ड तैयार कर दिया गया है। वहीं शासन को ब्लैक फंगस की दवाओं की आपूर्ति के लिए डिमांड भेजी गई।

अमर उजाला के रविवार के अंक में ‘महामारी घोषित होने के बाद भी अस्पतालों में शुरू नहीं हुई तैयारी’ खबर प्रकाशित की गई थी। इसके बाद हरकत में आए एसपीएस राजकीय अस्पताल प्रशासन ने आनन फानन में ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए चार बेड का म्यूकोरमाइकोसिस केयर वार्ड तैयार कर दिया।

सीएमएस डॉ. विजयेश भारद्वाज ने बताया कि अस्पताल में म्यूकोरमाइकोसिस केयर वार्ड का चार बेड का सेटअप तैयार कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि शासन को एंटी फंगल दवाओं की आपूर्ति और डिमांड भी भेज दी गई है।

इसके साथ देहरादून में कोविड ड्यूटी में तैनात नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. डीएस टोलिया को वापस भेजने के लिए सीएमओ को पत्र लिखा गया है। डॉ. विजयेश भारद्वाज ने बताया कि दवाएं उपलब्ध होने के साथ ब्लैक फंगस के मध्यम लक्षण वाले मरीजों को अस्पताल में भर्ती करना शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि वह स्वयं म्यूकोरमाइकोसिस केयर वार्ड का संचालन करेंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *