भैलो खेल आज मनाया जाएगा इगास, पहाड़ की परंपरा और संस्कृति की बिखरेगी छटा; जानिए क्या है मान्यता

0

 Igas festival भैलो और पारंपरिक नृत्य के साथ पहाड़ी व्यंजनों की खुशबू गांव ही नहीं शहरों में भी महकेगी। लोकपर्व इगास आज मनाया जाएगा। इसके लिए देहरादून में धाद संस्था, अखिल भारतीय गढ़वाल महासभा, देवभूमि सामाजिक जन विकास सांस्कृतिक संस्था आदि संगठनों ने युवा पीढ़ी को पहाड़ की परंपरा व संस्कृति से रूबरू कराने के लिए कार्यक्रम की तैयारी की है।

कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को लोकपर्व इगास मनाया जाता है। पर्व की खास बात यह है कि आतिशबाजी करने के बजाय लोग रात को पारंपरिक भैलो खेलते हैं। इस दिन मवेशियों के लिए भात, झंगोरा का पींडू (पौष्टिक आहार) तैयार किया जाता है। उनका तिलक लगाकर फूलों की माला पहनाई जाती है। जब गाय-बैल पींडू खा लेते हैं, तब उनको चराने वाले या गाय-बैलों की सेवा करने वाले बच्चे को पुरस्कार दिया जाता है। इस दिन घरों में पारंपरिक पकवान पूड़ी, स्वाले, उड़द की दाल की पकोड़ी बनाई जाती है।

इसलिए 14 को ही मनेगी एकादशी

14 अथवा 15 नवंबर को एकादशी को लेकर आमजन में संशय है। उत्तराखंड विद्वत सभा के आचार्य बिजेंद्र प्रसाद ममगाईं के अनुसार, कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही यह पर्व मनाया जाता है। इस बार 14 नवंबर को सुबह 5:48 पर एकादशी तिथि शुरू होकर 15 की सुबह 6:39 तक रहेगी। ऐसे में पूरी तिथि 14 नवंबर को पड़ने से इसी दिन इगास पर्व मनाया जाएगा। इस दिन कई लोग तुलसी विवाह भी करते हैं।

यह है मान्यता

डा. आचार्य सुशांत राज के मुताबिक पहाड़ में एकादशी को इगास कहते हैं। मान्यता के अनुसार, गढ़वाल में भगवान राम के अयोध्या लौटने की सूचना 11 दिन बाद मिली थी। इसलिए यह पर्व मनाया जाता है। दूसरी मान्यता के अनुसार दीपावली के समय गढ़वाल के वीर माधो सिंह भंडारी के नेतृत्व में गढ़वाल की सेना ने दापाघाट, तिब्बत का युद्ध जीतकर विजय प्राप्त की थी और दीपावली के ठीक 11वें दिन गढ़वाल सेना अपने घर पहुंची थी। युद्ध जीतने और सैनिकों के घर पहुंचने की खुशी में तब दीपावली मनाई थी।

उत्साह के साथ खेलते हैं भैलो

इगास के दिन भैलो खेलने का विशेष रिवाज है। चीड़ की लीसायुक्त लकड़ी से भैलो बनाते हैं। इसे दली या छिल्ला कहा जाता है। जहां चीड़ के जंगल न हों, वहां लोग देवदार, भीमल या हींसर की लकड़ी आदि से भी भैलो बनाते हैं। इन लकड़ियों के छोटे-छोटे टुकड़ों को एक साथ रस्सी अथवा जंगली बेलों से बांधा जाता है। फिर इसे जलाकर घुमाते हैं। इसे ही भैलो खेलना कहा जाता है।

बैंक कर्मियों को भी पर्व पर मिले अवकाश

लोकपर्व इगास पर बैंक कर्मियों, कोषागार और उप कोषागार के कर्मचारियों ने अवकाश न दिए जाने पर नाराजगी जताई। कहा कि संस्कृति व परंपराओं को आने वाली पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए पर्व मनाए जाते हैं, लेकिन पूर्व में भी भाई दूज, छठ पर्व को बैंक कर्मियों को अवकाश नहीं दिया गया। एआइपीएनबीओए के पदाधिकारी अखिलेश नवानी ने कहा कि सभी कार्मिक पर्व घरों में हर्षोल्लास के साथ मनाएं, इसलिए अवकाश दिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *